प्रेस-विज्ञप्ति

मा. मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश, ने प्रयागराज में की कुम्भ कार्यों की समीक्षा

मा. मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश, श्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रयागराज भ्रमण के बाद मेला क्षेत्र स्थित एसएसपी कार्यालय के सभागार में कुम्भ कार्यों की विभागीय समीक्षा भी की। जिसमें उन्होंने कहा कि प्रयागराज के कुम्भ को सफलता से सम्पन्न करने का सीधा प्रफुलिक उत्तर प्रदेश और प्रयागराज को प्राप्त होगा। कुम्भ की सफलता से उत्तर प्रदेश स्वयं ही आगे बढ़ जायेगा। उन्होंने कहा कि सभी कुम्भ कार्य कुम्भ के पहले स्नान के पूर्व हो जाए। उन्होंने कहा कि इस बात का विशेष ध्यान दिया जाय कि कुम्भ में आने वालो लोगों को किसी प्रकार की असुविधा न हो तथा आम श्रदाधु को असुविधा न हो।। उन्होंने कहा कि कुम्भ आयोजन में की गयी व्यवस्था में किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न हो इसके लिए किसी भी वीआईपी का कोई भी प्रोटोकाल एक दिन पहले और एक दिन बाद नही रहेगा।

मा. मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कुम्भ के दृष्टिगत सुरक्षा व्यवस्था को दुरूस्त होना चाहिए। इसके लिए हर अधिकारी एवं कर्मचारी अपनी ड्यूटी के प्रति सचेत रहें तथा कुम्भ आयोजन के लिए की गयी सुरक्षा व्यवस्था फुलप्रूफ हो। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कुम्भ के दौरान आने वाली भीड़ को नियंत्रित करनी रणनीति पर पूरी तरह से कार्य किया जाय। उन्होंने कहा कि लोगों से प्रेमपूर्वक व्यवहार कर उनका मार्गदर्शन किया जाय। मा. मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस बार कुम्भ में आने वाले श्रद्धालुओं पर पुष्पवर्षा हेलीकाफ्टर से की जायेगी। हेलीकाफ्टर तथा द्रोण से सुरक्षा तथा भीड़ नियंत्रण पर भी नजर रखी जायेगी।

बैठक में मा. मुख्यमंत्री जी ने पुलिस सुरक्षा की जानकारी डीआईजी कुम्भ श्री के.पी. सिंह से ली। जिसमें मा. मुख्यमंत्री जी को पैरामिलेट्री, एनडीआरएफ, पीएसी, जल पुलिस के जवानों की जानकारी देते हुए उनके द्वारा कुम्भ आयोजन में किये जाने वाले कार्यों को भी बताया गया। मा. मुख्यमंत्री जी ने कहा कि निर्माण वाले कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाय, इसके किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाय। उन्होंने महिला सुरक्षा पर भी चर्चा की तथा कहा कि महिलाओं की सुरक्षा पर प्राथमिकता दी जाय तथा इस बात का ध्यान दिया जाय कि कुम्भ आयोजन में आये अतिथियों को किसी प्रकार असुविधा न हो।

मा. मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कुम्भ आयोजन के दौरान यातायात व्यवस्था का अपना महत्व होता है इसलिए इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कुम्भ आयोजन में असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखी जाय, जिससे कि वे कुम्भ आयोजन के दौरान किसी प्रकार की अवरोध उत्पन्न न कर पायें। उन्होंने कहा कि पैट्रोलिंग नियमित हो तथा सुरक्षा व्यवस्ता दुरूस्त रहें। उन्होंने कहा कि मेला क्षेत्र मे साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाय। कुम्भ 2019 स्वच्छ कुम्भ की परिकल्पना का मूर्तरूप दिखाई दे। न्होने कन्ट्रोल कमाण्ड सेण्टर के कार्यों की जानकारी ली तथा इस सिस्टम की सराहना करते हुए कहा कि इसके द्वारा मेला के हर क्षेत्र मे पैनी नजर रखी जाय।

मा. मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कुम्भ मे आने वाले लोगों को बेहतर से बेहतर सुविधायें दी जा जाय। उन्हें किसी प्रकार की समस्या न हो, इस पर ध्यान दिया जाय। प्रदेश के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को आवास और भोजन की निःशुल्क सुविधा भी दी जाय। उन्होंने कहा कि कुम्भ आयोजन को देखने विभिन्न देशों के प्रमुख तथा कई गवर्नर एवं मुख्यमंत्री भी इस भव्य आयोजन को देखने आयेंगे। उन्होंने इस कार्य को सम्पन्न कराने के लिए प्रोटोकाल के लिए अलग से एक विभाग गठित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि स्वच्छता, महिला सुरक्षा, नमामि गंगे की योजना को कुम्भ साकार करता है। उन्होंने कहा कि यह पहला कुम्भ है, जिसमें लोग जल, थल एवं नभ से आयेंगे। उन्होंने कहा कि इस कुम्भ को यूनेस्को के द्वारा मान्यता दी गयी है। उन्होंने कहा कि इस बार के कुम्भ में हर वर्ग के लोग आ रहें है। उन्होने कहा कि यह कुम्भ अमीर, गरीब, ऊंच नीच के भेदभाव से परे सबकों एक समरसता का वातावरम दे रहा है। इस बात का प्रचार किया जाय। हर हाल में अफवाहों पर नियंत्रण की कार्रवाई सुनिश्चित करने के निर्देश मा. मुख्यमंत्री जी ने दिये। उन्होंने कहा कि स्वच्छ और सुरक्षित कुम्भ की जिम्मेदारी सभी विभागों की है और सभी को एक जुट होकर इस कार्य को पूरा करना है।

Saturday, 5 जनवरी 2019