प्रेस-विज्ञप्ति

प्रधानमंत्री ने बमरौली हवाई अड्डे प्रयागराज पर नए एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन किया

नगर विमानन मंत्रालय की देखरेख में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण देशभर में हवाई कनेक्टिहविटी प्रदान करने एवं हवाई अड्डे के बुनियादी ढांचे को विकसित और उन्नत करने के लिए प्रतिबद्ध है ।सरकार द्वारा किए जा रहे सक्रिय उपायों के चलते भारत पहले से ही विश्व में सबसे तेजी से बढ़ रहे नागर विमानन बाज़ारों में से एक है ।

भारत के माननीय प्रधानमंत्री ने उत्तसर प्रदेश के प्रयागराज जनपद स्थित बमरौली हवाई अड्डे पर एक नए एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स का उद्घाटन किया । यह उद्घाटनश्री राम नाईक, माननीय राज्यपाल, उत्तर प्रदेश, श्री योगी आदित्य नाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश, श्री सुरेश प्रभु, केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग तथा नगर विमानन मंत्री, श्री केशव प्रसाद मौर्य, उप मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश, श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री, उत्त र प्रदेश सरकार, श्री नन्द गोपाल गुप्ता “नंदी”, नगर विमानन मंत्री, उत्तर प्रदेश सरकार, डॉ. महेन्द्र नाथ पाण्डेय, सांसद (लोक सभा), श्री श्यामा चरण गुप्ता, सांसद (लोक सभा), श्री नागेंद्र प्रताप सिंह पटेल, सांसद (लोक सभा)की गरिमामयी उपस्थिति में सम्पनन्नस हुआ । इस अवसर पर अपने संबोधन में माननीय प्रधानमंत्री ने इस नए एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स का निर्माण रिकॉर्ड 11 महीने में पूरा करने के लिए केंद्रीय नागर विमानन मंत्री सहित भारतीय विमानपत्तेन प्राधिकरण की पूरी टीम की प्रशंसा करते हुए हार्दिक बधाई दी ।

बमरौली हवाई अड्डे के नए एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स का विकास भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा 164 करोड़ रूपए की लागत से किया गया है । बमरौली हवाई अड्डा भारतीय वायु सेना का है तथा भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण वहाँ पर एक सिविल एन्ले ह व का रख-रखाव करता है । पिछला सिविल एन्लेत्त व 0.8 एकड़ क्षेत्र में स्थित था और वहॉं एक छोटे से टर्मिनल भवन के माध्यनम से सीमित प्रचालन की सुविधा मौजूदथी । उस स्थारन पर टर्मिनल भवन के विस्ता।र की कोई संभावना नहीं थी । इसलिए आधुनिक टर्मिनल भवन के साथ एक नए एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स का निर्माण किया गया । उत्तमर प्रदेश सरकार ने नए एयरपोर्ट कॉम्प्लेक्स के विकास के लिए 50 एकड़ भूमि का अधिग्रहण करके उसे भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण को सौंपा ।

नया यात्री टर्मिनल भवन एक केंद्रीयकृत वातानुकूलित भवन है जिसका एरिया 6700 वर्ग मीटरका है और इसमें एक समय पर व्यस्ततम समय में 300 यात्रियों को संभालने की क्षमता है । यह टर्मिनल भवन यात्रियों के लिए आवश्याक सभी अनिवार्य सुविधाओं से सुसज्जित है तथा इसमें क्यूट समर्थ चेक इन काउंटर,बैगेज कन्वेवयर, एलिवेटर, जन संबोधन प्रणाली, अग्निशमन व फायर अलार्म प्रणाली, उड़ान सूचना प्रदर्श प्रणाली (एफ आई डी एस), सीसीटीवी, बैगेज स्कै नरएवं 200 कारों के लिए कार पार्किग तथा 20 कारों के लिए आरक्षित पार्किग की सुविधा मौजूद है । मा. प्रधानमंत्री ने सिविल इन्कलेव एयरपोर्ट का उद्घाटन करने के बाद कहा कि इस सिविल इन्कलेव एयरपोर्ट में प्रयागराज के साथ-साथ इस पूरे क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा एवं रोजगार को पर्यटन में बढ़ावा मिलने पर जहां प्रयागराज के साथ-साथ उ.प्र. के पूर्वी क्षेत्र में रोजगार सृजन होगा, वहां यहां की संस्कृति भी आयेगी। मा. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि कुम्भ के आयोजन में आने वाले यात्री भी बहुत अधिक मात्रा मे उपयोग कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि हमने प्रयागराज में सुविधायें इस तरह विकसित कर दी है कि यहां प्रत्येक वर्ष आने वाले यात्रियों की संख्या में अभूतपूर्व दृष्टि होगी तथा लगभग 1.30 लाख यात्री प्रतिवर्ष यहां आये यह हमारा लक्ष्य होगा। मा. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि प्रयागराज में इस उच्चस्तरीय सिविल इन्कलेव एयरपोर्ट का निर्माण जिस योजना के अन्तर्गत किया गया है उसका नाम उडान योजना है। इस योजना का तात्पर्य है कि उड़े देश का आम आदमी । प्रधानमंत्री जी ने कहा कि इस योजना के अन्तर्गत हमारी कोशिश है कि हवाई चप्पल से चलने वाला गरीब आदमी व्यक्ति भी हवाई जहाज की यात्रा कर सके। इसलिए हमने पूरे देश में भारत में विमानन क्षेत्र का विस्तार किया है और पूरे देश में प्रयागराज की तरह 100 और हवाई अड्डे बनाने की योजना है।

बमरौली हवाई अड्डा पहले दिल्ली एवं मुंबई से जुड़ा हुआ था लेकिन इसमें बीच-बीच में रूकावटें आती रहीं । उड़ान योजना के प्रारम्भस होने के बाद प्रयागराज से भारत के अन्ये महत्वटपूर्ण शहरों के साथ हवाई जुड़ाव में अपेक्षित तेजी आई । वर्ष 2017-18 के दौरान हवाई अड्डे पर 46,490 विमान यात्रियों का आवागमन हुआ । उड़ान योजना के अंतर्गत प्रचालन कर रही एयरलाइनों की आने वाले महीनों में इस हवाई अड्डे को मुंबई, बेंगलुरू, इन्दौरर, लखनऊ, पटना, नागपुर, भोपाल, भुवनेश्ववर, देहरादून, गोरखपुर, कोलकाता, पुणे एवं रायपुर से जोड़ने की महत्वा कांक्षी योजना है ।

उड़ान(उड़े देश का आम नागरिक) भारत सरकार की एक उत्कृ ष्टे योजना है जिसकी शुरूआत प्रयोग में न आ रहे हवाई मार्गों पर विमान प्रचालन प्रारम्भ करने, क्षेत्रीय स्थारनों को जोड़ने, संतुलित क्षेत्रीय विकास को प्रोत्सावहित करनेतथा आम लोगों को सस्ती विमान यात्रा सुलभ कराने के लिए की गई है । माननीय प्रधानमंत्री द्वारा उड़ान के अंतर्गत पहलीफ्लाइट दिनांक 27 अप्रैल, 2017 को दिल्लीम-शिमला सेक्ट्र पर प्रारम्भ2 की गई । उन्हेंन कहा कि एयरपोर्ट एथारिटी के अधिकारियो की तारीफ करते हुए कहा कि केवल 11 माह में इस सिविल इन्कलेव का निर्माण कर लिया गया है।

Sunday, 16 दिसम्बर 2018