प्रेस-विज्ञप्ति

उत्तरप्रदेश संस्कृति विभाग के खुले कलामन्चों पर जारी सांस्कृतिक गतिविधियाँ

शहर में स्थित खुले कलामन्चों पर आज सांस्कृतिक गतिविधियाँ जारी रहीं. अक्षयवट कला-मन्च, किला चौराहा कला-मन्च और भारद्वाज कला-मन्च पर बिहार की ऊषा कुमारी की कच्ची घोड़ी नामक विशेष प्रस्तुति हुई. उनके उपरान्त अंबेडकर नगर की जान्हवी पांडेय के लोकगीत व भजनों का कार्यक्रम हुआ.

केपी इन्टर कालेज कला-मन्च, लेप्रोसी मिशन चौराहा कला-मन्च और हाथी पार्क कला-मन्च पर प्रयागराज की त्रेतिमा कुमारी ने लोक नृत्य प्रस्तुत किया. उनके उपरांत मंच पर महोबा के परशुराम के लोकगीतों का कार्यक्रम हुआ.

संस्कृति ग्राम चौराहा कला-मन्च, अरैल सच्चा आश्रम कला-मन्च और वल्लभाचार्य मोड़ कला-मन्च पर आज लखनऊ की साहित्यिक, सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था अनादि के द्वारा लोक नृत्य प्रस्तुत किया गया. अनादि के लोक नृत्य के पश्चात लखनऊ की ही संस्था लोकांजली द्वारा विशेष लोक नृत्य मंचित किया गया जिसे दर्शकों की सराहना जमकर  प्राप्त हुई.

बैंक चौराहा कला-मन्च, सिविल लाइन्स बस स्टाप कला-मन्च और पत्थर वाला चर्च कला-मन्च पर आज दिल्ली के मनोज कुमार द्वारा निर्देशित नाटक का मन्चन किया गया. नाटक के बाद बिहार के सुमंगल कुमार झा द्वारा प्रस्तुत जादू के कार्यक्रम ने दर्शकों का दिल जीत लिया.

बालसन चौराहा कला-मन्च, इन्द्रमूर्ति चौराहा कला-मन्च और सुभाष चौराहा कला-मन्च पर आज प्रयागराज के सूर्यकुमार तिवारी ने ब्रज लोक नृत्य प्रस्तुत किया. वहीं पश्चिम बंगाल से आई कलाकार सुजाता डे ने कठपुतली के कार्यक्रम दिखा कर दर्शकों का मनोरंजन किया.

विश्वविद्यालय तिराहा कला-मन्च, राजापुर ट्रैफिक कला-मन्च पर आज प्रयागराज की सरस्वती लोकगीत पार्टी के अजुग नारायण ने लोक गीत प्रस्तुत किये. उनके बाद प्रयागराज के ही रामबाबू यादव ने भी लोक नृत्य देखा गया.

हीरालाल हलवाई कला-मन्च, सरस्वतीघाट कला-मन्च और प्रयागराज जंक्शन कला-मन्च पर आज वाराणसी के दिशा क्रियेशन द्वारा नाटक का मंचन किया गया. इसके उपरांत प्रयागराज के उमेश  कुमार सिंह का लोक नृत्य देखा गया.

आज राज्य ललित कला अकादमी, उ.प्र. के तीन दिवसीय राष्ट्रीय चित्रकार शिविर एवं परिचर्चा का उद्घाटन न्यायमूर्ति सुधीर नारायण जी एवं पद्मश्री बाबा योगेंद्र जी द्वारा किया गया. उक्त कला शिविर में लगभग 60 से अधिक चित्रकार भाग ले रहे हैं.

आज राज्य ललित कला अकादमी, उ.प्र. के तीन दिवसीय राष्ट्रीय चित्रकार शिविर एवं परिचर्चा का उद्घाटन न्यायमूर्ति सुधीर नारायण जी एवं पद्मश्री बाबा योगेंद्र जी द्वारा किया गया. उक्त कला शिविर में लगभग 60 से अधिक चित्रकार भाग ले रहे हैं.

Sunday, 27 जनवरी 2019