कुम्भ सेवा मित्र

स्वंय सेवा जीवन काल का एक अवसर है, एवं भिन्नता उत्पन्न करने का एक मौका है। जैसा कि भारत और प्रयागराज सम्पूर्ण विश्व का स्वागत करने के लिए लाल कालीन बिछाने के लिए तैयार रहेगा, स्वयं सेवकगण मेला प्राधिकरण का चेहरा और मेरूदण्ड होंगे क्योंकि उनकी स्वार्थरहित ‘हम यह कर सकते हैं’ की भावना के बगैर इन आयाम का एक सफल महोत्सव का संचालन करना कठिन होगा।

व्यापक रूप से यह विश्वास किया जाता है कि सामुदायिक संलिप्तता कई महोत्सवों की सफलता सुनिश्चित करती है। इसके केन्द्र में उसी सिद्धांत के साथ कुंभ मेला- 2019 का एक समावेशी भावना से आयोजन की ईप्सा करती हुई कुंम्भ मेला प्राधिकरण सम्पूर्ण देश से 500 से अधिक स्वयंसेवकगण को प्रेरित एवं संलग्न करते हुये उन्हें आयोजन दल का एक भाग होने का एक अद्वितीय अवसर प्रदान करता है जो विश्व की विराटतम धार्मिक मानव समागम का आयोजन करेगी और तद्द्वारा उन्हें प्रमुख एवं गंभीर कुशलता से सज्जित एवं समर्थ बनाती है जो उन्हें भविष्य में उनके वृत्तिक जीवन को बनाने में सहायक होगी और एक अक्षुण्ण विरासत अपने पीछे छोड़ जायेगी। वर्तमान में 5000 से अधिक स्वयंसेवक सामान्य दिनों में और 8000 से अधिक स्वयंसेवक कुंभ मेले में अपनी सेवाएं दे रहे हैं

कुम्भ सेवा मित्र