गतिविधियाँ

बसंत पंचमी

विद्या की देवी सरस्वती के अवतरण और आवाहन का यह पर्व ऋतु परिवर्तन का संकेत भी है । अंतिम शाही स्नान इसी दिन होने की वजह से संगम तट की छटा देखते ही बनती है । कल्पवासी बसंत पंचमी के दिन खासतौर से श्वेत वस्त्रों की जगह पीत वस्त्र धारण करते हैं ।

रविवार, १० फरवरी २०१९
पूर्ण दिवस
संगम, प्रयागराज