गतिविधियाँ

स्वच्छाग्रहियों को दिया गया एक जटिल एवं विशेष प्रशिक्षण

कुम्भ मेला प्राधिकरण, स्वास्थ्य विभाग एवं स्वच्छ भारत मिशन की जनपद स्तरीय टीम द्वारा दिया गया स्वच्छाग्रहियों को एक विशेष प्रशिक्षण कुम्भ मेला प्राधिकरण द्वारा दिनांक 10 दिसम्बर को स्वच्छ भारत मिशन, ग्रामीण के अर्न्तगत कार्यरत स्वच्छाग्रहियों को दिया गया एक विशेष प्रशिक्षण। प्रशिक्षण का मुख्य उदेश्य स्वच्छाग्रहियों को दिए गये उन्मुखीकरण के दौरान सर्किल कोआर्डिनेटर के रुप में चयनित हुए स्वच्छाग्रहियों को स्वच्छता की नवीन योजनाओं एवं तकनीकों से अवगत कराना व उनके प्रयोग का प्रशिक्षण देना रहा।

प्रशिक्षण का प्रारम्भ आगामी कुम्भ में होने वाली स्वच्छता की सुविधाओं की जानकारी देते हुए, पर्यावरण विशेषज्ञ, श्रीमती सलोनी गोयल द्वारा किया गया। उन्होंने जानकारी दी कि इस वर्ष मेले में स्वच्छता को और भी व्यवस्थित करनें के लिए मेले क्षेत्र को विभिन्न सेक्टरों व सर्किल्स में विभाजित किया गया है एवं प्रत्येक सेक्टर व मार्गों पर भूमि के अनुरुप विभिन्न प्रकार के 1 लाख 22 हज़ार 5 सौ शौचालयों शौचालयों का निर्माण किया जाएगा। जिनकीं की देख रेख व जाँच के लिए आई0 सी0 टी0 प्रणाली का प्रयोग किया जाएगा। इस प्रणाली के अर्न्तगत स्वच्छता को सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक शौचालय कॉम्पलेक्स पर एक क्यू0 आर0 कोड के द्वारा उसकी समय समय पर जाँच होती रहेगी जिसमें स्वच्छाग्रहियों की एक मुख्य भूमिका होगी। मेला क्षेत्र में जवाहर रोड पर बनाये गये शौचालयों पर पहुँच कर आई0 सी0 टी0 की टेक्निकल टीम द्वारा स्वच्छाग्रहियों को ऑनसाइट डिमॉन्सट्रेशन दिया गया।

मुख्य विकास अधिकारी, प्रयागराज, श्री सैमुएल एन पॉल ने बताया कि स्वच्छता के प्रति लोगों की सोच व व्यवहार प्ररिर्वतन की महत्ता को ध्यान में रखते हुए स्वच्छता के सन्देश को और भी रोचक तरीकों से लोगों तक पहुँचानें के लिए आई0 ई0 सी0 के अर्न्तगत विभिन्न गतिविधियाँ जैसे नक्कड़ नाटक, स्वच्छता सभा,प्रतिदिन रैली, इत्यादि का आयोजन भी किया जाएगा। इस वर्ष स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के सौजन्य से पूरे मेला क्षेत्र में 2000 स्वच्छाग्रहियों को तैनात किया जा रहा है। जिनका कार्य मेले मे सफाई की व्यवस्था की देखरेख, ट्रिगरिंग, लोगों में व्यवहार परिर्वतन इत्यादि है।

अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, प्रयागराज, डा0 अशोक कुमार पालीवाल ने स्वच्छाग्रहियों को बताया कि मेले मे विभिन्न प्रकार के शौचालय जैसे एफ0 आर0 पी0 शौचालय, टिन शौचालय, स्टील शौचालय, कनाथ शौचालय की स्थापना हो रही है।

आयोजित प्रशिक्षण में मेला प्राधिकरण एवं स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण, एवं स्वास्थ्य विभाग के समन्वय से सभी ब्लॉक से आए कुल 50 स्वच्छाग्रहियों को प्रशिक्षित किया गया। प्रशिक्षण की इसी श्रंखला में कल दिनांक 11 दिसम्बर 2018 को अतिरिक्त और 50 स्वच्छाग्रहियों का प्रशिक्षण होगा जो के मेले के दौरान सर्किल कोआर्डिनेर्टस के रुप में कार्यरत रहेंगे और बाकी सभी स्वच्छाग्रहियों को भी प्रशिक्षित करेंगे।

प्रशिक्षण में सहायक जिला पंचायत राज अधिकारी श्री आशुतोश कुमार द्वारा सभी प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन किया गया। जिसमें जिला स्वच्छ भारत प्रेरक, जिला सलाहकार एवं कुम्भ यंग प्रोफेशनल्स का महत्चपूर्ण योगदान रहा।

मंगलवार, 11 दिसम्बर 2018
पूर्ण दिवस