जी डब्लु आर

बसों की सबसे लम्बी परेड | 28 फरवरी 2019

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम एवं प्रयागराज मेला प्राधिकरण ने गुरुवार (28 फरवरी 2019) को दुनिया में ‘बसों की सबसे बड़ी परेड’ के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित कर नया इतिहास रचा। इस नए कीर्तिमान को स्थापित करने के लिए प्रयागराज शहर में 503 कुंभ मेला बसों की परेड का आयोजन किया गया, जिसकी प्रयागराज मेला प्राधिकरण (पीएमए) और यूपीएसआरटीसी ने पहले सी तैयारी कर ली थी। इससे पूर्व 390 बसों की परेड के साथ यह रिकॉर्ड अबू धाबी के नाम था। 503 बसों की 3.2 किलोमीटर लम्बी पंक्ति ने सहसों टोल और नवाबगंज टोल उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम एवं प्रयागराज मेला प्राधिकरण ने गुरुवार (28 फरवरी 2019) को दुनिया में ‘बसों की सबसे बड़ी परेड’ के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित कर नया इतिहास रचा। इस नए कीर्तिमान को स्थापित करने के लिए प्रयागराज शहर में 503 कुंभ मेला बसों की परेड का आयोजन किया गया, जिसकी प्रयागराज मेला प्राधिकरण (पीएमए) और यूपीएसआरटीसी ने पहले सी तैयारी कर ली थी। इससे पूर्व 390 बसों की परेड के साथ यह रिकॉर्ड अबू धाबी के नाम था। 503 बसों की 3.2 किलोमीटर लम्बी पंक्ति ने सहसों टोल और नवाबगंज टोल प्लाजा के बीच की दुरी तय करके यह रिकॉर्ड स्थापित किया।


8 घंटे में हैंडप्रिंट पेंटिंग में सबसे ज्यादा योगदान | 01 मार्च 2019

कुम्भ 2019 के लिए प्रयागराज के सौन्दर्यीकरण हेतु उत्तर प्रदेश सरकार एवं प्रयागराज मेला प्राधिकरण ने पेंट माई सिटी अभियान शुरू कर सड़क कला द्वारा समस्त नगर को सुशोभित किया गया। इस अभियान और आईईसी योजना के तहत शहर में 15 लाख वर्ग फुट के क्षेत्र को चित्रित किया गया था। इस पहल का उद्देश्य कला के माध्यम से भारतीय कला एवं संस्कृति का प्रदर्शन करना था, जिसमें देशभर के विभिन्न कलाकारों ने भाग ले कर अपनी कला से शहर को सुन्दर बनाया और इसे कुम्भ में आने वाले करोड़ो श्रद्धालुओं ने सराहा।
पेंट माई सिटी अभियान की सफलता को विश्वस्तरीय बनाने के उद्देश्य से प्रयागराज के कुम्भ मेला क्षेत्र में बने भव्य गंगा पंडाल में 1 मार्च 2019 को "8 घंटे में पेंटिंग में सबसे अधिक योगदान" के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड का प्रयास किया गया। हमें ये सूचित करते हुए अति प्रसन्ता हो रही है कि न केवल हमने पिछले रिकॉर्ड को 4 घंटे 21 मिनट में पार कर लिया बल्कि 7644 योगदान के साथ एक नया रिकॉर्ड भी स्थापित किया है। इससे पूर्व यह रिकॉर्ड दक्षिण कोरिया के नाम था जिसमें 4675 लोगों ने भाग लिया था।


विभिन्न स्थानों पर एक साथ झाड़ू लगाने वाला सबसे विशाल जन समूह | 02 मार्च 2019

कुम्भ 2019 में स्वच्छ कुम्भ के उद्देश्य से 'विभिन्न स्थानों पर एक साथ झाड़ू लगाने वाला सबसे विशाल जन समूह' के भव्य कुम्भ के दौरान मेला क्षेत्र को साफ एवं पवित्र बनाए रखने के लिए 20,000 स्वच्छाकर्मी तैनात किए गए थे। इस सफाई कर्मचारियों ने 1500 स्वच्छाग्रहीयो की सहायता से 24 घंटे मेला की सफाई जवाब स्वच्छता को बनाये रखने का कार्य किया। मेला क्षेत्र में जगह-जगह लगभग 20 हज़ार से भी अधिक कूड़ा-पत्र रखे गए और आगंतुकों को इनके उपयोग के लिए प्रेरित किया गया। स्वच्छता बनाये रखने के लिए डेढ़ लाख से भी अधिक शौचालयों का निर्माण किया गया, जिससे आगंतुकों को सुविधा मिलने के साथ ही मेला क्षेत्र को दूषित होने से बचाया जा सका। इसके अलावा, गंगा में बहने वाले सभी नालों को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट्स में टैप किया गया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि स्नान के लिए जाने वाले करोड़ों तीर्थयात्रियों के लिए संगम स्वच्छ एवं पवित्र बना रहे।
ऐतिहासिक भव्य कुंभ 2019 में स्वच्छता की ये पहल सफल साबित हुयी, जिसके चलते 10,181 स्वच्छाकर्मियो ने कुम्भ मेला क्षेत्र के 5 विभिन्न स्थानों (लाल मार्ग (सेक्टर 1), लाल मार्ग (सेक्टर 2), संगम लोअर मार्ग, संकट मोचन मार्ग और कैलाश पुरी मार्ग) पर 2 मिनट तक झाड़ू लगा कर एक नया रिकॉर्ड बनाया।